Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मैं कवि..?

संग्रह में मेरे कविताओं का अंबार है,
किन्तु मैं कवि, दिल मानने को कहा तैयार है।
कहते है लोग आप लिखते अच्छा है
पर दिल की सुने तो हम कच्चा हैं।
सोचता हूँ एक न एक दिन, पुस्तक हम छपवायेंगे।
दिल की बात अगर करे हम , पैसे कहाँ से आयेंगे।
तो क्या मेरे सपनों का यही विराम है।
या फिर पैसों से हटकर भी रास्ते तमाम है।
मेरे अरमानों का ऐ कैसा हस्रे अंजाम है।
या इससे उलट “मेधा” का कोई दुजा संसार है।
क्या मै कभी कवि कहलाऊंगा,
या यूँ ही फेसबुक पर लिखता जाऊंगा।
आप है मेरे यार अवश्य कोई रास्ता सुझाऐंगे
या दिल की तरह आप भी मेरा माखौल उड़ायेंगे।
©…..पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

259 Views
You may also like:
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
माँ की याद
Meenakshi Nagar
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
Little sister
Buddha Prakash
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
Loading...