Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Mar 2022 · 1 min read

Love never be painful

Pain never lives in heart,
Open the eyes for someone’s love,
Peep into the belove’s mind,
Feel the love,
Love is life,
Don’t be surprize,
Ohh my dear! my belove ,
I can’t forget the memory of love,
Feeling of love fragnance in the life,
Don’t break the heart,
Remember the moments still alive ,
Yes it is true ,
Life is painful to live,
Love never be painful.

Written by-
Buddha Prakash,
Maudaha Hamirpur (U.P.)

4 Likes · 209 Views
You may also like:
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम साथ अगर देते नाकाम नहीं होता
Dr Archana Gupta
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम मुकद्दर पर
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा
सेजल गोस्वामी
संत की महिमा
Buddha Prakash
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
सवाल कब
Dr fauzia Naseem shad
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...