Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

Wakt ke pahredar

Koi abhi janam le raha hai,
Koi apni akhiri sase gin raha .
Koi baitha h shringar ki lajja me,
Koi safed sadi me simat rha .
Koi rasmo ki reet saja raha hai,
Koi bandisho se nikal raha .
Koi aagan me tulsi bann rha hai,
Koi kichad me kamal khila rha .
Koi duniya ki mutthi me hai samaya,
Koi duniya ko mutthi me kar raha .
Koi nirantar koshish kar rha wajud se milne ki,
Koi badhte tufan se gujar rha.
Koi bheed ka hissa bann rha hai,
Koi bheed se aage badh rha .
Koi shikayat ki potli samete baitha hai,
Koi gyan ke prakash ko faila rha.
Koi apni ek khahish jahir kar rha,
Koi use taumar nibha rha .
Koi bato ka wajan bana rha,
Koi bina bole hi kar ke dikha rha.
Koi baitha hai shital hawao me,
Koi usme kal kal bah rha.
Wakt ka pahiya ghum rha pal pal,
Koi ruka hai koi har chhad badal rha.
Ek dusre se aage badhne ki aad me,
Manav samaj khud se hi piche rah gya.

1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मोहब्बत
मोहब्बत
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
तूफां से लड़ता वही
तूफां से लड़ता वही
Satish Srijan
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रखना खयाल मेरे भाई हमेशा
रखना खयाल मेरे भाई हमेशा
gurudeenverma198
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
सुस्त हवाओं की उदासी, दिल को भारी कर जाती है।
Manisha Manjari
शिव स्तुति
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
फेमस होने के खातिर ही ,
फेमस होने के खातिर ही ,
Rajesh vyas
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
आखिर तुम खुश क्यों हो
आखिर तुम खुश क्यों हो
Krishan Singh
✍️बचा लेना✍️
✍️बचा लेना✍️
'अशांत' शेखर
काश बचपन लौट आता
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
खुद्दारी ( लघुकथा)
खुद्दारी ( लघुकथा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मजदूरीन
मजदूरीन
Shekhar Chandra Mitra
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
डॉ.सीमा अग्रवाल
भगवान की तलाश में इंसान
भगवान की तलाश में इंसान
Ram Krishan Rastogi
मैं भारत हूँ
मैं भारत हूँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
मैं निर्भया हूं
मैं निर्भया हूं
विशाल शुक्ल
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sometimes we feel like a colourless wall,
Sakshi Tripathi
आचार संहिता
आचार संहिता
Seema gupta,Alwar
*दो कुंडलियाँ*
*दो कुंडलियाँ*
Ravi Prakash
भोली बाला
भोली बाला
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
ऐसे तो ना मोहब्बत की जाती है।
Taj Mohammad
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
तेरी खुशबू से
तेरी खुशबू से
Dr fauzia Naseem shad
सावन की बौछार
सावन की बौछार
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...