Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho

Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi mere bhitar ke hawaye ko tar kar jate ho .
Kbhi de jate ho tum umar bhar ka sath ,
Kabhi khamoshi me mujhe basar kar jate ho.
😍 by sakshi

66 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
#शिव स्तुति#
#शिव स्तुति#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
मैथिली साहित्य मे परिवर्तन से आस जागल।
Acharya Rama Nand Mandal
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
चंद घड़ी उसके साथ गुजारी है
Anand.sharma
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
दुनिया इश्क की दरिया में बह गई
प्रेमदास वसु सुरेखा
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
देख लेना चुप न बैठेगा, हार कर भी जीत जाएगा शहर…
Anand Kumar
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
नींव में इस अस्तित्व के, सैकड़ों घावों के दर्द समाये हैं, आँखों में चमक भी आयी, जब जी भर कर अश्रु बहाये हैं।
Manisha Manjari
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
मैं करता हुँ उस्सें पहल तो बात हो जाती है
Sonu sugandh
■ लघु-व्यंग्य / खुशखबरी...
■ लघु-व्यंग्य / खुशखबरी...
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
Shekhar Chandra Mitra
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
आरुणि की गुरुभक्ति
आरुणि की गुरुभक्ति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
औकात
औकात
Dr.Priya Soni Khare
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
वो एक ही शख्स दिल से उतरता नहीं
श्याम सिंह बिष्ट
इश्किया होली
इश्किया होली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चिड़िया चली गगन आंकने
चिड़िया चली गगन आंकने
AMRESH KUMAR VERMA
वाक़िफ न हो सके हम
वाक़िफ न हो सके हम
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
राह नहीं मंजिल नहीं बस अनजाना सफर है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*सबसे अच्छे मूर्ख हैं, जग से बेपरवाह (हास्य कुंडलिया)*
*सबसे अच्छे मूर्ख हैं, जग से बेपरवाह (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भ्रमन टोली ।
भ्रमन टोली ।
Nishant prakhar
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ़ लेना सरकार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ़ लेना सरकार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सेना सर्व धर्म स्थल में
सेना सर्व धर्म स्थल में
Satish Srijan
दोहे- दास
दोहे- दास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...