Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2022 · 1 min read

JNU CAMPUS

घनी और गहरी हरियाली के ऊपर काले बादल उमड़े हुए है। यौं लगा जैसे बादल अभी बरसकर थमे हों। गीली साफ सड़के दूर तक चमक रही है। जे एन यू की लाल चकाचक बिल्डिंग सामने खड़ी है। हम छोटी-छोटी पगडंडियों से गुजरते हुए अपने गंतव्य पर पहुंच गये। हरी घास पर बैठी उन्मुक्त नीलगाय और वृक्षों की डाल पर बैठे सुरीले पंछी हमें देख रहे हैं। शायद तभी जे एन यू कैंपस सभी को इतनी आत्मीय लगता है।
मनोज शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 119 Views
You may also like:
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
Satish Srijan
■ ये भी खूब रही....!!
■ ये भी खूब रही....!!
*Author प्रणय प्रभात*
करवा चौथ
करवा चौथ
VINOD KUMAR CHAUHAN
लाखों सवाल करता वो मौन।
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
हवा में हाथ
हवा में हाथ
रोहताश वर्मा मुसाफिर
आ जाते जो एक बार
आ जाते जो एक बार
Kavita Chouhan
इकबालिया बयान
इकबालिया बयान
Shekhar Chandra Mitra
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगीभर का साथ
ज़िंदगीभर का साथ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
होलिका दहन
होलिका दहन
Buddha Prakash
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो जाए,
खिड़की खुले जो तेरे आशियाने की तुझे मेरा दीदार हो...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जोकर vs कठपुतली ~03
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
मध्यम वर्गीय परिवार ( किसान)
Nishant prakhar
मेरे स्वयं पर प्रयोग
मेरे स्वयं पर प्रयोग
Ankit Halke jha
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
बड़ी मुश्किल से लगा दिल
कवि दीपक बवेजा
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
गीत-2 ( स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आइना अपने दिल का साफ़ किया
आइना अपने दिल का साफ़ किया
Anis Shah
ज़रूरी थोड़ी है
ज़रूरी थोड़ी है
A.R.Sahil
*किसी बच्चे के जैसे मत खिलौनों से बहल जाता (मुक्तक)*
*किसी बच्चे के जैसे मत खिलौनों से बहल जाता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
💐प्रेम कौतुक-486💐
💐प्रेम कौतुक-486💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बरसात।
बरसात।
Anil Mishra Prahari
***
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! "...
VEDANTA PATEL
बरसात और बाढ़
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
क्षमा
क्षमा
Saraswati Bajpai
अगे माई गे माई ( मगही कविता )
अगे माई गे माई ( मगही कविता )
Ranjeet Kumar
" सिनेमा को दरक़ार है अब सुपरहिट गीतों की "...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
✍️आहट
✍️आहट
'अशांत' शेखर
एक ख़ामोशी मेरे अंदर है
एक ख़ामोशी मेरे अंदर है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...