Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

It is good that it is bad. It could have been worse.

It is good that it is bad. It could have been worse.

Rajiv

Language: English
Tag: Quote Writer
19 Views
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-139💐
💐अज्ञात के प्रति-139💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ जोश क्या गरज मुझे हूरो-कसूर से, मेरा वतन मेरे लिए जन्नत से
ऐ जोश क्या गरज मुझे हूरो-कसूर से, मेरा वतन मेरे...
Dr Rajiv
त्रिशरण गीत
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
अर्थहीन
अर्थहीन
Shyam Sundar Subramanian
✍️परीक्षा की सच्चाई✍️
✍️परीक्षा की सच्चाई✍️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता की पराजय
पिता की पराजय
सूर्यकांत द्विवेदी
Writing Challenge- बारिश (Rain)
Writing Challenge- बारिश (Rain)
Sahityapedia
कुर्सीनामा
कुर्सीनामा
Shekhar Chandra Mitra
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
नव संवत्सर
नव संवत्सर
Manu Vashistha
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया अपना नाम जानिए?
भुनेश्वर सिन्हा कांग्रेस के युवा नेता जिसने संघर्ष से बनाया...
Jansamavad
सलाम भी क़ुबूल है पयाम भी क़ुबूल है
सलाम भी क़ुबूल है पयाम भी क़ुबूल है
Anis Shah
चलो हमसफर यादों के शहर में
चलो हमसफर यादों के शहर में
गनेश रॉय " रावण "
■ त्रासदी
■ त्रासदी
*Author प्रणय प्रभात*
आज समझी है ज़िंदगी हमने
आज समझी है ज़िंदगी हमने
Dr fauzia Naseem shad
पेपर वाला
पेपर वाला
मनोज कर्ण
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
वह मौत भी बड़ा सुहाना होगा
Aditya Raj
देशज से परहेज
देशज से परहेज
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रात गुज़र जायेगी यूं ही
रात गुज़र जायेगी यूं ही
Surinder blackpen
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
“ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भेल जा रहल छी ”
“ हम महान बनबाक लालसा मे सब सँ दूर भेल...
DrLakshman Jha Parimal
अनसुनी~प्रेम कहानी
अनसुनी~प्रेम कहानी
bhandari lokesh
✍️मंज़िल की चाहत ✍️
✍️मंज़िल की चाहत ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
वाह वाही कभी पाता नहीं हूँ,
Satish Srijan
भोजपुरी भाषा
भोजपुरी भाषा
Er.Navaneet R Shandily
दिव्यांग भविष्य की नींव
दिव्यांग भविष्य की नींव
Rashmi Sanjay
नशा - 1
नशा - 1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*
*"परिवर्तन नए पड़ाव की ओर"*
Shashi kala vyas
Loading...