Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2023 · 1 min read

Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,

Intakam hum bhi le sakte hai tujhse,
Teri galtiyo ka hisab hum bhi rakhte hai .
Lekin har kisi ki soch ek jaisi ho, jaruri to nhi.

1 Like · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
नास्तिक सदा ही रहना...
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
ना आप.. ना मैं...
ना आप.. ना मैं...
'अशांत' शेखर
बाल कहानी- प्रिया
बाल कहानी- प्रिया
SHAMA PARVEEN
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पैसा पैसा कैसा पैसा
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
विचारमंच भाग -2
विचारमंच भाग -2
Rohit Kaushik
"अगर तू अपना है तो एक एहसान कर दे
कवि दीपक बवेजा
प्रेम की पुकार
प्रेम की पुकार
Shekhar Chandra Mitra
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
पूनम की रात में चांद व चांदनी
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
सावन मास निराला
सावन मास निराला
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*झेलता दामाद को (हिंदी गजल/गीतिका)*
*झेलता दामाद को (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
बातें नहीं, काम बड़े करिए, क्योंकि लोग सुनते कम और देखते ज्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में ख़त्म हो गया |
The_dk_poetry
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
नरसिंह अवतार
नरसिंह अवतार
Shashi kala vyas
ये रंगा रंग ये कोतुहल                           विक्रम कु० स
ये रंगा रंग ये कोतुहल विक्रम कु० स
Vikram soni
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आंखों में कोई
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्य विचार (पंचचामर छंद)
सत्य विचार (पंचचामर छंद)
Rambali Mishra
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ये बारिश के मोती
ये बारिश के मोती
Surinder blackpen
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
लफ्ज
लफ्ज
shabina. Naaz
रूठना
रूठना
Shiva Awasthi
माफ करना मैडम हमें,
माफ करना मैडम हमें,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...