Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2022 · 1 min read

If We Are Out Of Any Connecting Language.

What if we are out of any connecting language?
You might be someone; I might be someone carrying our baggage.
We found ourselves holding all the pain inside, but our heads were high.
It’s nothing but the blessings He wanted to shower us from the bright blue sky.
The arrival was confusing when you came first in my eyesight.
You, too, were uncertain and in a dilemma but were too polite.
The edge’s sunrises have bonded our strings so tight.
And an ultimate bond of faith developed between us at that mountain’s height!
That dark station raised our anxiety about what we were leaving behind.
And He started to play with us the game He designed.
Our wavelengths prove that we have lived a life together in any other dimension of time.
That’s why I guess we meet again to walk together in a rhyme.

2 Likes · 4 Comments · 370 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
https://youtube.com/@pratibhaprkash?si=WX_l35pU19NGJ_TX
Dr.Pratibha Prakash
रंगमंच
रंगमंच
Ritu Asooja
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
Phool gufran
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
क्यों हिंदू राष्ट्र
क्यों हिंदू राष्ट्र
Sanjay ' शून्य'
एक औरत की ख्वाहिश,
एक औरत की ख्वाहिश,
Shweta Soni
कुण्डलिया छंद
कुण्डलिया छंद
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*भाग्य विधाता देश के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
*भाग्य विधाता देश के, शिक्षक तुम्हें प्रणाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
■ आज की बात
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
जिसकी याद में हम दीवाने हो गए,
Slok maurya "umang"
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
Ashish shukla
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कौन सा हुनर है जिससे मुख़ातिब नही हूं मैं,
कौन सा हुनर है जिससे मुख़ातिब नही हूं मैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
याराना
याराना
Skanda Joshi
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
रात तन्हा सी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई हो
शेखर सिंह
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...