May 17, 2021 · 1 min read

I love to be

I love to fly
I want to fly
Without any boundaries

I love my self
i want to love myself
Without any taboos

I love my smile
I want more smile
Without any restrictions

I love freedom
I want more freedom
Without any responsibility

3 Likes · 5 Comments · 334 Views
You may also like:
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
भाग्य लिपि
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
किताब।
Amber Srivastava
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
रुक जा रे पवन रुक जा ।
Buddha Prakash
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐💐💐न पूछो हाल मेरा तुम,मेरा दिल ही दुखाओगे💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...