Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2022 · 1 min read

I Can Cut All The Strings Attached

My struggles were real, and I strongly led my life with pride.
I traveled so far alone that I never needed anyone on my side.
You wanted to walk with me, so you held my hands tight.
Your care compelled me, so I gave you a fair chance without any fight.
You illusioned me with a mirage, that happiness would never find its end.
I trusted you in blindfolds and wondered whether it really happened.
I have doubts about my fate. Now see how my fears come alive.
You say you are with me, so why am I waiting for you to arrive?
You say you can’t let me go, but I don’t understand why.
When you can’t treat me right, why are your emotions high?
We started this journey together because I thought our destinations had combined.
But you just wanted to win this race alone and left me far behind.
Yes! I am feeling defeated and isolated now, but you are underestimating my power inside.
I can cut all the strings attached when my heart decides, and my patience might die.

2 Likes · 2 Comments · 394 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा
द्रुत विलम्बित छंद (गणतंत्रता दिवस)-'प्यासा"
Vijay kumar Pandey
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
आदमी क्या है - रेत पर लिखे कुछ शब्द ,
Anil Mishra Prahari
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
एक generation अपने वक्त और हालात के अनुभव
पूर्वार्थ
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
सरप्लस सुख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
3230.*पूर्णिका*
3230.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
*चमचागिरी महान (हास्य-कुंडलिया)*
Ravi Prakash
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
यह कब जान पाता है एक फूल,
यह कब जान पाता है एक फूल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नेता जी शोध लेख
नेता जी शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
सियासी खेल
सियासी खेल
AmanTv Editor In Chief
शीर्षक – ऐ बहती हवाएं
शीर्षक – ऐ बहती हवाएं
Sonam Puneet Dubey
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
बालगीत :- चाँद के चर्चे
बालगीत :- चाँद के चर्चे
Kanchan Khanna
राम को कैसे जाना जा सकता है।
राम को कैसे जाना जा सकता है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
दिल के हर
दिल के हर
Dr fauzia Naseem shad
"सुकून"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
जिंदगी के कुछ कड़वे सच
Sûrëkhâ
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
■ बड़ा सवाल ■
■ बड़ा सवाल ■
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...