Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

सूर्य देव के दर्शन हेतु भगवान को प्रार्थना पत्र …

शीत ऋतु में यह वर्षा ऋतु का मेल ,
हमारी समझ में न आया।
यह सजा है या वरदान कोई ,
भगवान ! कुछ तो समझाओ ।
सूर्य देव के दर्शन को तो ,
निकल जाते कितने ही दिन,
उस बादलों का छा जाना ,
बहुत बढ़ जाती है ठिठुरन।
इधर हमारे प्यारे बेचारे पेड़ पौधे ,
उधर हम जरा सी धूप को तरसते ।
और उस पर ऊपर बैठके तुम ,
हमारे मजे हो लेते।
ना ! ना ! भगवान ! इतना जुल्म ,
तुम मत करो ।
शीत ऋतु तो ठीक है ,
मगर वर्षा को तो मत भेजो ।
और अगर मुमकिन हो तो ,
सूर्य देव को थोड़ी सी देर के लिए ,
धरती पर भेज दो ।
बादलों में छुपकर वोह भी ले ,
रहे होते है हमारे मजे।
उनको उठाओ और अपनी ड्यूटी पर भेजो ,
ताकि थोड़ी सी किरणें वोह ,
धरती पर भेजे।
इतनी कृपा कर दो भगवान ,
हम माने तेरा एहसान।
जैसे भी है अच्छे या बुरे
हैं तो तेरी ही संतान।

52 Views
Like
Author
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...