· Reading time: 2 minutes

सतयुग की झलक दिख जाए !

सतयुग की झलक दिख जाए !
#################

जब कोई ख़ुश कभी होता है
तो मुझे भी ख़ुशी मिलती है !
और कोई दुखी जब होता है
तो मैं भी दुखित हो जाता हूॅं !!

और इसी तरह की भावना का ,
सबसे ही अपेक्षा मैं रखता हूॅं !
पर करते कोई जब अवहेलना ,
तो दुखित मैं भी हो जाता हूॅं !!

खुशियाॅं औरों की हो या अपनी ,
खुशी तो बस, खुशी ही होती है !
तुलनात्मक दोनों ही स्थिति में ,
कोई जीवात्मा ही तृप्त होती हैं !!

औरों की भलाई में जो कोई ,
खुद का हित भी देखते हैं !
वैसे जीव तो सचमुच में ही ,
देवता का अंश ही होते हैं !!

गर हम सब ये चाह लें तो….
कलियुग भी सतयुग हो जाए !
ऐसी इच्छा शक्ति जगा लें तो….
हर प्राणी ही सच्चा बन जाए !!

ना रहे कोई भी रावण कहीं पे ,
बच्चा-बच्चा ही राम बन जाए !
झूठ की बुनियाद पे खड़ा हर वृक्ष ,
अब सच्चाई का ही फल दे जाए !!

रावण के युग का अंत होकर ,
रामराज्य ही क्यों ना बन जाए !
क्यों नहीं हम सब ही मिलकर ,
ऐसा ही करिश्मा कुछ कर जाएं !!

आज हरेक की जवाबदेही ये हो….
बेईमानी की जड़ नहीं पनप पाए !
सच्चाई के मार्ग पे सब कोई चलकर ,
सतयुग की झलक अब दिख जाए !!

स्वरचित एवं मौलिक ।
सर्वाधिकार सुरक्षित ।
अजित कुमार “कर्ण” ✍️✍️
किशनगंज ( बिहार )
दिनांक : 24 अक्टूबर, 2021.
“”””””””””””””””””””””””””””””””””
💐💐💐💐💐💐💐💐💐

7 Likes · 4 Comments · 209 Views
Like
Author
242 Posts · 78.4k Views
Accountant, Civil Court at Kishanganj ( Bihar ) Qualifications : Post Graduation degree in Chemistry, From D. S. College, Katihar ( Bihar ) Hobby :- Thinking & Writing. Some poems…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...