· Reading time: 1 minute

वो ग़ाफ़िल को ताने सुनाने चले हैं

बताओ जी क्या क्या बनाने चले हैं
अदब के जो याँ कारख़ाने चले हैं

जो हों कानफाड़ू जँचें बस नज़र को
अब ऐसी ही ख़ूबी के गाने चले हैं

न जिनको हुनर है बजाने का ढोलक
सितम है वो हमको नचाने चले हैं

जब आने लगी दिल से बदबू तो देखो
जनाब आज उसको लुटाने चले हैं

चले तो सही तीर नज़रों के उनके
भले मेरे दिल के बहाने चले हैं

नहीं रेंगता जूँ है कानों पे जिनके
वो ग़ाफ़िल को ताने सुनाने चले हैं

-‘ग़ाफ़िल’

61 Views
Like
Author
मैं ग़ाफि़ल बदनाम

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...