· Reading time: 1 minute

योजना है

सुनो एक योजना है।

  जब तलक पूरी न होगी,
  इस जहाँ में जिद हमारी।
  जुबाँ पर फरियाद होगी,
  अवज्ञाएँ फिर हमारी।
  जब तलक ना वक्त साथी,
  दुख तो यूँ ही भोगना है।
  सुनो……….

                                 लालसा कुछ छोड़ दें, 
                                 संशय की गागर फोड़ दें।
                                ओज मन में संचरित कर,
                                भ्रमित मन झकझोर दें।
                               दो कदम हर रोज़ चलकर,
                               लक्ष्य को ही सोचना है।
                               सुनो……….

  इन खगों से सीख लें,
  गगन में उनमुक्त उड़ना।
  तिनका-तिनका जोड़कर,
  नीड़ सा सपनों को बुनना।
  अब नहीं रुकेंगे थककर,
  अब यही परियोजना है।
  सुनो………….

1 Like · 2 Comments · 71 Views
Like
Author
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता Books: अनकहे पहलू(काव्य संग्रह) अंजुमन(साझा संग्रह) मुसाफिर(साझा संग्रह) साहित्य उदय(साझा संग्रह) काव्य अंकुर(साझा संग्रह) कल्पना के मोती(साझा संग्रह) भारत के युवा कवि एवं कवयित्रियाँ(साझा संग्रह) कलाप(साझा संग्रह) संपादित…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...