· Reading time: 1 minute

मेरी वफाओं का देकर सिला गया कोई ।

मेरी वफाओं का देकर सिला गया कोई ।
आतिश ए इश्क वफा से बुझा गया कोई ।
❤️
वह जहर देता है मुझको दुआ भी देता है।
उम्मीदें उम्र दराज़ी जगा गया कोई।
💖
किसी की याद में खोए हुए थे हम भी तो।
नकाब यादों के आकर हटा गया कोई।
💗
खता जो होती तो हम भी कुबूल कर लेते।
बिना खता किए देकर सजा गया कोई।
❤️
जिसे एहसास नहीं था मेरी मोहब्बत का।
हमारी मौत पर आंसू बहा गया कोई।
💖
जिसकी तकलीद किया करते थे मोहब्बत में।
छतों से प्यारे परिंदे उड़ा गया कोई।
💖
सगीर प्यार दोबारा न फिर करे कोई ।
कब्र पर मेरी, यह देकर सदा गया कोई।
💖💖💖💖💖❤️💖💖
डॉक्टर सगीर अहमद सिद्दीकी खैरा बाजार बहराइच

7 Views
Like

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...