· Reading time: 1 minute

नशा……………..४

नशा……………..४

नशा जवानी का अक्सर होश खो देता है
अच्छे – बुरे मे फर्क कि समझ खो देता है
भटक जाता इस उम्र में युवा जीवन पथ से
बहकर रवानी की लहर मे मंजिल खो देता है ।।



डी. के. निवातियॉ___________@

1 Comment · 65 Views
Like
Author
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों,…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...