· Reading time: 1 minute

जेब

आम आदमी की कमीज में
दो जेब लगा दी गई हैं
एक से पैसे निकाल रहे हैं
दूसरी जेब में डाल रहें हैं

इस तरह एक आम आदमी की
आंखों में धूल झोंकी जा रही है
पेट्रोल की कीमत घटाई जा रही है
हर चीज़ पर GST बढ़ाई जा रही है

आम आदमी की कमाई घट रही है
चेहरे पर झुर्रियां बढ़ रही हैं
बिटिया की शादी कैसे होगी
सोच कर कमर झुक रही है

1 Like · 1 Comment · 23 Views
Like
Author
Write poems geet gazal sher muKtak Write stories and short stories Make drawings pencil sketches I am graduate since 1978

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...