Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

जरा-सी धूप जाड़ों की (गीतिका)

*जरा-सी धूप जाड़ों की (गीतिका)*
■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
जो छू लो तो करामाती ,जरा-सी धूप जाड़ों की
बड़ी मुश्किल से मिल पाती ,जरा-सी धूप जाड़ों की
(2)
जिन्हें है दर्द घुटनों का ,जो छत पर जा नहीं पाते
उन्हें सपनों में है आती ,जरा-सी धूप जाड़ों की
(3)
घने कोहरे में सूरज देर से अक्सर निकलता जब
किसी दुल्हन-सी शर्माती ,जरा-सी धूप जाड़ों की
(4)
तनिक- सी देर में फुर्ती बदन में भर यह देती है
दवा अनमोल कहलाती ,जरा-सी धूप जाड़ों की
—————————————————
*रचयिता: रवि प्रकाश, बाजार सर्राफा*
रामपुर (उ.प्र.) मो. 9997615451

1 Like · 1 Comment · 11 Views
Like
Author

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...