· Reading time: 1 minute

कभी ना सोचें कि ऐसा होता !

कभी ना सोचें कि ऐसा होता !
🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲🌲

कभी ना सोचें कि ऐसा होता !
कभी ना सोचें कि वैसा होता !
हम जैसे भी हैं उसी में खुश रहें ,
बस, इसी में सबका भला होगा !!

मनुष्य किसी न किसी मोड़ पे ,
ये सोचने को मजबूर हो जाता !
कि हम कहीं और ही होते तो….
हमारी दुनिया कुछ और ही होती !!

बस , इसी चिंतन मनन में उसकी
भावनाऍं भी संकुचित होती जाती !
व्यक्तित्व उसका निखर नहीं पाता….
किसी तरह वो ज़िंदगी काटता जाता !!

वो कभी ये मानने को तैयार क्यों नहीं ?
कि अन्यत्र कहीं और भी बुरा हाल होता !
जरूरी नहीं कि घर-बार खुशहाल होता !
परिकल्पना मात्र से किसका भला होता ?
ये तो बस, मन को झूठी तसल्ली ही देता !!

आप जहाॅं कहीं भी हैं, बिंदास जियें ,
जो भी काम करते हैं , बेधड़क करें !
वे सभी कार्य अच्छे हैं जो खुशियाॅं दे ,
वर्तमान परिस्थिति में ही खुशहाल रहें !!

जो कोई वर्तमान को नहीं जी पाएगा ,
वो सदा घूंट – घूंट कर ही मर जाएगा !
थोड़ी-बहुत जो खुशियाॅं मिलने वाली थीं ,
उससे भी सदैव वंचित ही वो रह जाएगा !!

स्वरचित एवं मौलिक ।
सर्वाधिकार सुरक्षित ।
अजित कुमार “कर्ण” ✍️✍️
किशनगंज ( बिहार )
दिनांक : 25 नवंबर, 2021.
“”””””””””””””””””””””””””””””””
🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿

7 Likes · 6 Comments · 129 Views
Like
Author
242 Posts · 77.4k Views
Accountant, Civil Court at Kishanganj ( Bihar ) Qualifications : Post Graduation degree in Chemistry, From D. S. College, Katihar ( Bihar ) Hobby :- Thinking & Writing. Some poems…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...