· Reading time: 1 minute

इतना बड़ा बहरूपिया

जीवन को
परिभाषित करना
कितना कठिन कार्य है
एक पल में न जाने
कितने तो रूप बदलता है
इतना बड़ा बहरूपिया है कि
बस पूछो मत
कुछ भी बताऊं कैसे
इसके रंग इतने हैं कि
मैं तो इन्हें पहचानने में भी हूं
असमर्थ।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

31 Views
Like
Author

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...