· Reading time: 1 minute

//… अंतर्द्वंद …//

//… अंतर्द्वंद …//
——— ——— ———

मन की भट्टी , तपती भावनाएं ,
देती यातनाएं मुझे मेरी ही कामनाएं …!

देखता हूं प्रेम से ,
जब तुम्हारी ओर मैं
दरिया के उस पार ,
खड़ी हो शमशान में …!

असंभव है अब मिलन ,
दिन जो है ढल गया
स्याह काली रात में,
भटकती हैं आत्माएं …!

मन की भट्टी , तपती भावनाएं ,
देती यातनाएं मुझे मेरी ही कामनाएं …!

जिस्म किसी और का ,
चाहत किसी और से
जरूरत कोई पूरी करे ,
जरूरत किसी और का …!

कैसा वक्त , कैसा अंधकार ,
बीच मझधार खोई पतवार
जीत /हार जाता हूं खुद से ,
कैसी हैं ये विडम्बनाएं …!

मन की भट्ठी ,तपती भावनाएं
देती यातनाएं मुझे मेरी ही कामनाएं…!

मृग-तृष्णा के रेगिस्तान में ,
असहाय चला जाता हूं
दुनिया के इस मेले में ,
खुद को अकेला पाता हूं …!

रंजिश नहीं किसी और से ,
खुद से लड़ा जाता हूं
मन का मौसम है पतझड़ ,
गमों की आंधियां ,बढ़ रही हैं विपदाएं …!

मन की भठ्ठी और तपती भावनाएं
देती यातनाएं मुझे मेरी ही कामनाएं …!

कब रुकना , कहां रुकना ,
यहां किसे है खबर
बस चली जा रही है ,
नहीं है कोई रहबर.

सोचता हूं इस राह में ,
और कब तक चलना है
ना कोई ठौर ना ठिकाना ,
बस नोंच रहीं तन्हाएं….!

मन की भट्टी और तपती भावनाएं ,
देती यातनाएं मुझे मेरी ही कामनाएं…!

चिन्ता नेताम “मन”
डोंगरगांव ( छ. ग.)

2 Likes · 4 Comments · 60 Views
Like
Author
मैं अपनी भावनाओं को पन्ने पर समेटता हुआ एक मन हूं.....

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...