Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

Har roj tumhara wahi intajar karti hu

Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Jaha ek roj tum mujhe chhod gaye the.
Tumne kaha tha ki ab koi rishta nhi rakhna
Mujhe lagta hai , naraj ho tum mujhse
Aur ajj tak tumhare mann jane ka intajar kar rahi hu.
Nahi pata tum manoge ya nhi ,
Nahi pata wapas aaoge ya nhi .
Fir bhi tumhara intajar karne me jitna sukun h
Utni to tumse mohabbat krne me bhi na tha.
😍

1 Like · 268 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ कूष्माण्डा
माँ कूष्माण्डा
Vandana Namdev
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बात क्या है जो नयन बहने लगे
बात क्या है जो नयन बहने लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
✍️शराफ़त✍️
✍️शराफ़त✍️
'अशांत' शेखर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
न कहर ना जहर ना शहर ना ठहर
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
होली
होली
Kanchan Khanna
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
Neelam Sharma
कल भी वही समस्या थी ,
कल भी वही समस्या थी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है
जो व्यर्थ गया खाली खाली,अब भरने की तैयारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द और जिंदगी
दर्द और जिंदगी
Rakesh Rastogi
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
गम के बादल गये, आया मधुमास है।
सत्य कुमार प्रेमी
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
क़ीमत
क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
पावस
पावस
लक्ष्मी सिंह
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
जीवन का हर एक खट्टा मीठा अनुभव एक नई उपयोगी सीख देता है।इसील
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कुछ यादें आज भी जिन्दा है।
कुछ यादें आज भी जिन्दा है।
Taj Mohammad
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
💐अज्ञात के प्रति-37💐
💐अज्ञात के प्रति-37💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ अनुभूति और अभिव्यक्ति-
■ अनुभूति और अभिव्यक्ति-
*Author प्रणय प्रभात*
औरों की उम्मीदों में
औरों की उम्मीदों में
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
चढ़ती उम्र
चढ़ती उम्र
rkchaudhary2012
प्रेम में सब कुछ सहज है
प्रेम में सब कुछ सहज है
Ranjana Verma
धारण कर सत् कोयल के गुण
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रलयंकारी कोरोना
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
Loading...