Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

Gazal

عجیب لطف سی ہوتی ہے تیری باتوں میں۔
کِ کبھی جی نہیں بھرتا ہے ملاقاتوں میں۔

تم سے ناطہ ہے پرانا کوئی وفاؤں کا۔
تم سے ملنے کی لکیریں ہیں میرے ہاتھوں میں۔

سرد موسم جو نکلنے نہیں دیتا گھر سے۔
سرد موسم کا مزا لیتے ہیں سب راتوں میں۔

چاند سورج نہ ستارے نہ شمع کی پرواہ ۔
ہم تو محبوب کو تکتے ہیں گھنی راتوں میں۔

وحدهو لا شریک ذات ہے جو۔
“صغیر” ربّ میرا یکتا ہے سب صفاتوں میں۔

ڈاکٹر صغیر احمد صدیقی خیرا بازار بہرائچ

Language: Urdu
Tag: غزل
1 Like · 161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
मुझ जैसा रावण बनना भी संभव कहां ?
Mamta Singh Devaa
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
*माँ सरस्वती (चौपाई)*
Rituraj shivem verma
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
मेंरे प्रभु राम आये हैं, मेंरे श्री राम आये हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*देव पधारो हृदय कमल में, भीतर तुमको पाऊॅं (भक्ति-गीत)*
*देव पधारो हृदय कमल में, भीतर तुमको पाऊॅं (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
ज़हालत का दौर
ज़हालत का दौर
Shekhar Chandra Mitra
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
गुरु आसाराम बापू
गुरु आसाराम बापू
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
मैं मन की भावनाओं के मुताबिक शब्द चुनती हूँ
Dr Archana Gupta
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
😢आज का शेर😢
😢आज का शेर😢
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
प्रेम पत्र
प्रेम पत्र
Surinder blackpen
"नेवला की सोच"
Dr. Kishan tandon kranti
"हमारे नेता "
DrLakshman Jha Parimal
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वोट डालने जाना
वोट डालने जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
2952.*पूर्णिका*
2952.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
जीवन भर मरते रहे, जो बस्ती के नाम।
Suryakant Dwivedi
जीत और हार ज़िंदगी का एक हिस्सा है ,
जीत और हार ज़िंदगी का एक हिस्सा है ,
Neelofar Khan
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
किसी विशेष व्यक्ति के पिछलगगु बनने से अच्छा है आप खुद विशेष
Vivek Ahuja
भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
भ्रष्ट नेताओं,भ्रष्टाचारी लोगों
Dr. Man Mohan Krishna
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
जीवन में सारा खेल, बस विचारों का है।
Shubham Pandey (S P)
Loading...