Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2022 · 1 min read

Freedom

What the children want, is freedom
They want a life without strife,
They want to play with their chums
Day and night
Without parents’ fright.

What an adolescents want, is freedom
They want freedom in every aspects,
They want to take decision freely
Without the interferences of others.

What old people want, is freedom
They want to live their old life freely
They want freedom from their caretakers
And sons and daughters.

We must give them
The freedom of life,
The freedom of choice
And every freedom
To make the man satisfied
With their life.

Language: English
3 Likes · 176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
रंग रहे उमंग रहे और आपका संग रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पृथ्वी की दरारें
पृथ्वी की दरारें
Santosh Shrivastava
बारिश की मस्ती
बारिश की मस्ती
Shaily
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Lambi khamoshiyo ke bad ,
Sakshi Tripathi
"ईर्ष्या"
Dr. Kishan tandon kranti
'फौजी होना आसान नहीं होता
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
ए रब मेरे मरने की खबर उस तक पहुंचा देना
श्याम सिंह बिष्ट
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
किसी मोड़ पर अब रुकेंगे नहीं हम।
surenderpal vaidya
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
लहरे बहुत है दिल मे दबा कर रखा है , काश ! जाना होता है, समुन
Rohit yadav
💐प्रेम कौतुक-538💐
💐प्रेम कौतुक-538💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
* रचो निज शौर्य से अनुपम,जवानी की कहानी को【मुक्तक】*
* रचो निज शौर्य से अनुपम,जवानी की कहानी को【मुक्तक】*
Ravi Prakash
जीवन पर
जीवन पर
Dr fauzia Naseem shad
वो सुहानी शाम
वो सुहानी शाम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
वो तसव्वर ही क्या जिसमें तू न हो
Mahendra Narayan
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
राह मे मुसाफिर तो हजार मिलते है!
राह मे मुसाफिर तो हजार मिलते है!
Bodhisatva kastooriya
■ वंदन-अभिनंदन
■ वंदन-अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
तपिश धूप की तो महज पल भर की मुश्किल है साहब
Yogini kajol Pathak
लकवा
लकवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बीते हुए दिनो का भुला न देना
बीते हुए दिनो का भुला न देना
Ram Krishan Rastogi
** चीड़ के प्रसून **
** चीड़ के प्रसून **
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
होलिका दहन कथा
होलिका दहन कथा
विजय कुमार अग्रवाल
*जब से मुझे पता चला है कि*
*जब से मुझे पता चला है कि*
Manoj Kushwaha PS
Loading...