Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

Forgive everyone 🙂

Forgive everyone 🙂
But…
Never forget

1 Like · 33 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
😊 #सुर्ख़ियों में आने का ज़ोरदार #तरीक़ा :--
*Author प्रणय प्रभात*
फिर से सतयुग भू पर लाओ
फिर से सतयुग भू पर लाओ
AJAY AMITABH SUMAN
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शुकराना
शुकराना
Shivkumar Bilagrami
धोखा था ये आंख का
धोखा था ये आंख का
RAMESH SHARMA
💐अज्ञात के प्रति-125💐
💐अज्ञात के प्रति-125💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️माँ ✍️
✍️माँ ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बालिका दिवस
बालिका दिवस
Satish Srijan
श्री महेंद्र प्रसाद गुप्त जी (हिंदी गजल/गीतिका)
श्री महेंद्र प्रसाद गुप्त जी (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
रंग जीवन के
रंग जीवन के
Ranjana Verma
प्यार का बँटवारा
प्यार का बँटवारा
Rajni kapoor
ग्रीष्म की तपन
ग्रीष्म की तपन
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
शहीद दिवस
शहीद दिवस
Ram Krishan Rastogi
युद्ध के स्याह पक्ष
युद्ध के स्याह पक्ष
Aman Kumar Holy
चैतन्य
चैतन्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
Maa pe likhne wale bhi hai
Maa pe likhne wale bhi hai
Ankita Patel
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
सुनो बुद्ध की देशना, गुनो कथ्य का सार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुफ्तगू की अहमियत ,                                       अब क्या ख़ाक होगी ।
गुफ्तगू की अहमियत , अब क्या ख़ाक होगी ।
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
यहाँ तो सब के सब
यहाँ तो सब के सब
DrLakshman Jha Parimal
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
तिलक-विआह के तेलउँस खाना
आकाश महेशपुरी
तब घर याद आता है
तब घर याद आता है
कवि दीपक बवेजा
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
" तुम्हारी जुदाई में "
Aarti sirsat
अजीब सूरते होती है
अजीब सूरते होती है
Surinder blackpen
सबकी खैर हो
सबकी खैर हो
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
कितना मुश्किल है
कितना मुश्किल है
Dr fauzia Naseem shad
Loading...