Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 28, 2021 · 1 min read

Father

Father brought up me
Mother give birth to me

I am debted to father
Child for him not either

Gives worldly pleasures
Before him no exposure

If he doesn’t care needs
We are unvaluable seeds

63 Likes · 1 Comment · 449 Views
You may also like:
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बेरूखी
Anamika Singh
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Mamta Rani
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...