Sep 13, 2021 · 1 min read

Eyes

Eyes
how to say
matter of eyes
see
so started
lake depth
dream reality

like a tavern
school of love
dance theater
in the eyes
unquenchable thirst
maybe these eyes
looking for special

64 Likes · 318 Views
You may also like:
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
कभी भीड़ में…
Rekha Drolia
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
दर्द भरे गीत
Dr.sima
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम की साधना
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
संस्मरण:भगवान स्वरूप सक्सेना "मुसाफिर"
Ravi Prakash
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नीति के दोहे
Rakesh Pathak Kathara
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
Loading...