Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

Ek jindagi ke sapne hajar,

Ek jindagi ke sapne hajar,
Ek dukan ke kharidar hajar,
Kimat ki hukumat samaj me ,,
Rajgaddi ke umeedwar hajar . 😍 by sakshi

221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देखा है।
देखा है।
Shriyansh Gupta
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दरारों से।
दरारों से।
Taj Mohammad
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
वचन दिवस
वचन दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
कुछ सवाल
कुछ सवाल
manu sweta sweta
सम्भव कैसे मेल सखी...?
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
अंधेरों में मुझे धकेलकर छीन ली रौशनी मेरी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
विशेष दिन (महिला दिवस पर)
Kanchan Khanna
हिन्दी दोहे- सलाह
हिन्दी दोहे- सलाह
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*नगरपालिका का कैंप* (कहानी)
*नगरपालिका का कैंप* (कहानी)
Ravi Prakash
अस्फुट सजलता
अस्फुट सजलता
Rashmi Sanjay
कोशिशों में तेरी
कोशिशों में तेरी
Dr fauzia Naseem shad
रूठी हूं तुझसे
रूठी हूं तुझसे
Surinder blackpen
मुझे     उम्मीद      है ए मेरे    दोस्त.   तुम.  कुछ कर जाओग
मुझे उम्मीद है ए मेरे दोस्त. तुम. कुछ कर जाओग
Anand.sharma
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
जरा सी गलतफहमी पर
जरा सी गलतफहमी पर
Vishal babu (vishu)
ये जिंदगी
ये जिंदगी
N.ksahu0007@writer
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
फेसबूक के पन्नों पर चेहरे देखकर उनको पत्र लिखने का मन करता ह
DrLakshman Jha Parimal
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
फ़ासला
फ़ासला
मनोज कर्ण
“आनंद ” की खोज में आदमी
“आनंद ” की खोज में आदमी
DESH RAJ
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
"मान-सम्मान बनाए रखने का
*Author प्रणय प्रभात*
मानव मूल्य
मानव मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चाय जैसा तलब हैं मेरा ,
चाय जैसा तलब हैं मेरा ,
Rohit yadav
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
💐उनकी नज़र से दोस्ती कर ली💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राखी सबसे पर्व सुहाना
राखी सबसे पर्व सुहाना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...