Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Apr 2023 · 1 min read

Dr Arun Kumar Shastri

Dr Arun Kumar Shastri
Keeping Karela in Golden bowl can not change its taste.
Same is with Selfish people, do as much as good to them you can not change their Nature

122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
रज़ा से उसकी अगर
रज़ा से उसकी अगर
Dr fauzia Naseem shad
जन्म दिन
जन्म दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*अपने पैरों खड़ी हो गई (बाल कविता)*
*अपने पैरों खड़ी हो गई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
भूले बिसरे दिन
भूले बिसरे दिन
Pratibha Kumari
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
💐 निर्गुणी नर निगोड़ा 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जख्म के दाग हैं कितने मेरी लिखी किताबों में /
जख्म के दाग हैं कितने मेरी लिखी किताबों में /"लवकुश यादव अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
नमस्ते! रीति भारत की,
नमस्ते! रीति भारत की,
Neelam Sharma
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
तुझे अपने दिल में बसाना चाहती हूं
Ram Krishan Rastogi
राम नाम जप ले
राम नाम जप ले
Swami Ganganiya
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Hello Sun!
Hello Sun!
Buddha Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
नारी
नारी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
माया मोह के दलदल से
माया मोह के दलदल से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
VINOD KUMAR CHAUHAN
इस जमाने जंग को,
इस जमाने जंग को,
Dr. Man Mohan Krishna
किरदार
किरदार
SAGAR
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
डरो नहीं, लड़ो
डरो नहीं, लड़ो
Shekhar Chandra Mitra
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
अन्नदाता,तू परेशान क्यों है...?
मनोज कर्ण
We Would Be Connected Actually
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
एकता
एकता
Aditya Raj
हुआ अच्छा कि मजनूँ
हुआ अच्छा कि मजनूँ
Satish Srijan
🌹🌹वो मेरे दिल के मुसाफ़िर हैं, निकालूँ कैसे🌹🌹
🌹🌹वो मेरे दिल के मुसाफ़िर हैं, निकालूँ कैसे🌹🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मजदूरों की दुर्दशा
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
"गिल्ली-डण्डा"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...