Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Apr 2023 · 1 min read

Do you know ??

Do you know ??
I love mathematics
Why??
Because maths is absolute science
Means
My love is absolute

166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
जीवन चलती साइकिल, बने तभी बैलेंस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हया आँख की
हया आँख की
Dr. Sunita Singh
थकते नहीं हो क्या
थकते नहीं हो क्या
सूर्यकांत द्विवेदी
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
आये हो मिलने तुम,जब ऐसा हुआ
gurudeenverma198
पिता - जीवन का आधार
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
थिओसॉफी के विद्वान पंडित परशुराम जोशी का व्याख्यान
थिओसॉफी के विद्वान पंडित परशुराम जोशी का व्याख्यान
Ravi Prakash
बाढ़ का आतंक
बाढ़ का आतंक
surenderpal vaidya
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
बेटियों के अधिकार
बेटियों के अधिकार
Shekhar Chandra Mitra
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
काश असल पहचान सबको अपनी मालूम होती,
manjula chauhan
केवट का भाग्य
केवट का भाग्य
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दृढ़ संकल्पी
दृढ़ संकल्पी
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
वजीर
वजीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
$तीन घनाक्षरी
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
जीवन की अनसुलझी राहें !!!
Shyam kumar kolare
किसको दोष दें ?
किसको दोष दें ?
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज के
ज़िंदगी तेरे मिज़ाज के
Dr fauzia Naseem shad
पाया ऊँचा ओहदा, रही निम्न क्यों सोच ?
पाया ऊँचा ओहदा, रही निम्न क्यों सोच ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो पास आने लगी थी
वो पास आने लगी थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*मुक्तक*
*मुक्तक*
LOVE KUMAR 'PRANAY'
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
निज स्वार्थ ही शत्रु है, निज स्वार्थ ही मित्र।
श्याम सरीखे
Loading...