Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2022 · 1 min read

Divine’s prayer

O God! O God! O God!
We are the children on the earth,
Living on prayers and food,
Save from the evils,
Give the knowledge in brief,
O God! Omnipotent and merciful ,
Fill the heart with love,
Protect the lives of all creatures,
Like the sun shines on sky,
The full moonlight spreads on night,
The rivers flows serves the earth,
The greenish forests save the world,
The mountains stand balance the land,
O God! We people serve the human.
We are little angels in the schools,
Give the power and intellect ,
Gain the knowledge as teacher teaches.

Written by
Buddha Prakash
Maudaha Hamirpur (U.P.)

Language: English
Tag: Poem
3 Likes · 1 Comment · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Buddha Prakash

You may also like:
सुहावना समय
सुहावना समय
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
Have faith in your doubt
Have faith in your doubt
AJAY AMITABH SUMAN
💐Prodigy Love-34💐
💐Prodigy Love-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
पापा
पापा
Satish Srijan
परवरिश करने वाले को एहसास है ,
परवरिश करने वाले को एहसास है ,
Buddha Prakash
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
लड़खाएंगे कदम
लड़खाएंगे कदम
Amit Pandey
अपना प्यारा जालोर जिला
अपना प्यारा जालोर जिला
Shankar J aanjna
मेहनतकश अवाम
मेहनतकश अवाम
Shekhar Chandra Mitra
* जिंदगी में कब मिला,चाहा हुआ हर बार है【मुक्तक】*
* जिंदगी में कब मिला,चाहा हुआ हर बार है【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Kbhi kbhi lagta h ki log hmara fayda uthate hai.
Sakshi Tripathi
वक्त रहते सम्हल जाओ ।
वक्त रहते सम्हल जाओ ।
Nishant prakhar
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
करीब हो तुम मगर
करीब हो तुम मगर
Surinder blackpen
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
जन्नत चाहिए तो जान लगा दे
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
भूलाया नहीं जा सकता कभी
भूलाया नहीं जा सकता कभी
gurudeenverma198
"गूंगों की बस्ती में, बहरों की आबादी।
*Author प्रणय प्रभात*
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
Shashi kala vyas
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
वक्त के साथ सब कुछ बदल जाता है...
Ram Babu Mandal
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
काग़ज़ के पुतले बने,
काग़ज़ के पुतले बने,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
Every best can be made better as every worst can be made worse.
Every best can be made better as every worst can be made worse.
Dr. Rajiv
..सुप्रभात
..सुप्रभात
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...