Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2022 · 1 min read

Dear Mango…!!

Dear mango, dear mango,
Hanging on the tree.
I will love to eat you,
When I’m free.
Dear mango, dear mango,
Little sour and sweet,
Keeps me healthy and fit,
Whenever I eat.

……Kanchan Khanna, MBD.(U.P.)
Dated : – 23/07/2022.

Language: English
Tag: Poem
1 Like · 239 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
" शरारती बूंद "
Dr Meenu Poonia
तेरे मेरे रिश्ते को मैं क्या नाम दूं।
तेरे मेरे रिश्ते को मैं क्या नाम दूं।
Taj Mohammad
हाँ तुझे सोचते रहना
हाँ तुझे सोचते रहना
Dr fauzia Naseem shad
247.
247. "पहली पहली आहट"
MSW Sunil SainiCENA
बेचारे मास्टर जी( हिंदी गजल/ गीतिका)
बेचारे मास्टर जी( हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भूत प्रेत का भय भ्रम
भूत प्रेत का भय भ्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2345.पूर्णिका
2345.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सोनेवानी के घनघोर जंगल
सोनेवानी के घनघोर जंगल
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ज़ुदा हैं रास्ते अपने,
ज़ुदा हैं रास्ते अपने,
Rashmi Sanjay
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
फितरत
फितरत
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
इश्क़ का असर
इश्क़ का असर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
जगत जननी है भारत …..
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
✍️जिंदगी का बोझ✍️
✍️जिंदगी का बोझ✍️
'अशांत' शेखर
✍️प्रेम की राह पर-71✍️
✍️प्रेम की राह पर-71✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पापा के परी
पापा के परी
जय लगन कुमार हैप्पी
सच के सिपाही
सच के सिपाही
Shekhar Chandra Mitra
बीच-बीच में
बीच-बीच में
*Author प्रणय प्रभात*
कौन हिसाब रखे
कौन हिसाब रखे
Surinder blackpen
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
हर घड़ी यूँ सांस कम हो रही हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
परिवार के दोहे
परिवार के दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
मसरुफियत में आती है बे-हद याद तुम्हारी
Vishal babu (vishu)
Loading...