Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

Chahat ka samandar ham bhi rakhte h ,

Chahat ka samandar ham bhi rakhte h ,
Bus tum bahar rakhte ho , hm apne andar rakhte h. 😍
By sakshi

124 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
वाह ग़ालिब तेरे इश्क के फतवे भी कमाल है
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-384💐
💐प्रेम कौतुक-384💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
Taran Verma
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
हम मिले थे जब, वो एक हसीन शाम थी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कहूं कैसे भोर है।
कहूं कैसे भोर है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
Satpallm1978 Chauhan
हमारे दरमियान कुछ फासला है।
हमारे दरमियान कुछ फासला है।
Surinder blackpen
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
ख्वाब देखा है हसीन__ मरने न देंगे।
Rajesh vyas
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राष्ट्रीय गणित दिवस....
राष्ट्रीय गणित दिवस....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
anupma vaani
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
मैं अपने दिल में मुस्तकबिल नहीं बनाऊंगा
कवि दीपक बवेजा
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
■ ज़रा_याद_करो_कुर्बानी
■ ज़रा_याद_करो_कुर्बानी
*Author प्रणय प्रभात*
नया साल
नया साल
Dr Archana Gupta
शायरी
शायरी
goutam shaw
*शिष्टाचार आना चाहिए 【हिंदी गजल/गीतिका 】*
*शिष्टाचार आना चाहिए 【हिंदी गजल/गीतिका 】*
Ravi Prakash
जीतना
जीतना
Shutisha Rajput
विश्व तुम्हारे हाथों में,
विश्व तुम्हारे हाथों में,
कुंवर बहादुर सिंह
प्यार में
प्यार में
श्याम सिंह बिष्ट
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
भुला भुला कर के भी नहीं भूल पाओगे,
Buddha Prakash
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Ye sham uski yad me gujarti nahi,
Sakshi Tripathi
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
समय सबों को बराबर मिला है ..हमारे हाथों में २४ घंटे रहते हैं
DrLakshman Jha Parimal
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
शांति तुम आ गई
शांति तुम आ गई
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
~प्रकृति~(द्रुत विलम्बित छंद)
~प्रकृति~(द्रुत विलम्बित छंद)
Vijay kumar Pandey
अवसर
अवसर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अन्त हुआ आतंक का,
अन्त हुआ आतंक का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
जिन्दगी में कभी रूकावटों को इतनी भी गुस्ताख़ी न करने देना कि
Nav Lekhika
Loading...