· Reading time: 1 minute

लोग का कही!

के हमार
खाली करी बुराई
औरी के करी
बड़ाई हो!
के हमार
ख़ूबे हंसी उड़ाई
औरी के आंसू
बहाई हो!!
हम ई सब
देखे खातिर कवनो
अब रहेब तअ ना
इंहवा हो!
हम जहिया
ई दुनिया छोड़ेब
केकरा कइसन
बुझाई हो!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#philosophy #life
#निर्गुण

9 Views
Like
Author
149 Posts · 5.3k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...