· Reading time: 1 minute

भटनी शहर में ना

विधा-कजरी

तू त चलि गइलऽ भटनी शहर में।
राति के पहर में ना।
हमके छोडि के किराया के घर में,
ठीक दुपहर में ना।

कहत रहलऽ करब केयर, छोडि के जालऽ स्पेयर।
हमारो जिनगी घोराइल जहर में, राति के पहर में ना।

घंटा देखे सब बहत्तर, जिनगी भइल बद से बद्तर।
इहवाँ राशन ना पानी बा घर में, ठीक दुपहर में ना।

रेलिया भइलि सवतिन, मिले ना दे तीन दिन।
हमके छोडि देतऽ संईया नइहर में, ठीक दोपहर में ना

सन्तोष कुमार विश्वकर्मा ‘सूर्य’

53 Views
Like

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...