· Reading time: 1 minute

महंगाई

हाय महंगाई
हाय-हाय महंगाई
हाय महंगाई
हाय-हाय महंगाई
(१)
पहिले रहे ऊ
डाइन बाकिर
आज-काल
भईल भउजाई
हाय महंगाई
हाय-हाय महंगाई…
(२)
जे ना समझल
ऊ ना समझी
हम समझेनी
ओकर चतुराई
हाय महंगाई
हाय-हाय महंगाई…
(३)
जेके मननी
आपन मसीहा
उहे निकलल
निरमम क़साई
हाय महंगाई
हाय-हाय महंगाई…
(४)
केकरा लगे
फ़रियाद करीं
काहां जाके
दीं हम दुहाई
हाय महंगाई
हाय-हाय महंगाई…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#चुनावीशायरी #इंकलाबीशायरी
#सियासीशायरी #अवामीशायर

15 Views
Like
Author
149 Posts · 5.3k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...