· Reading time: 1 minute

बेवफ़ाई के सज़ा

हम दोसर सजा
तहके दीं का
तू हमके ना
जब जान पवलू!
भाग्य से तहसे
मिलल रहनी
तू बाकिर ना
पहचान पवलू!!
ऊ पागल हअ
आवारा हअ
झगड़ालू हअ
नाकारा हअ!
पड़लू दुनिया के
कहला में तू
आत्मा के कहल
ना मान पवलू!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
(A Dream of Love)

47 Views
Like
Author
182 Posts · 8.6k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...