Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

बीमार

कमर में दर्द चालू बा, तनिक धुधला नजर होता।
सभे बोले करऽ संयम, सुनऽ अब तऽ उमर होता।
रहल शूगर भइल पिलिया समझ आवे न बीमारी-
सुनाईं हाल का आपन दवाई पर गुजर होता।

#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’

58 Views
Like

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...