Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

बिन तुहरे हम बानी बेजान

दुई तन बा एक गो परान रजऊ,
बिन तुहरे हम बानी बेजान रजऊ,,
अइसन कमाई के, का डारी हम अचार हो,
सुखवा जवानी के करी दीहल जे बेकार हो,
एतना तू बूझा हमार रजऊ,,
पइसा से ना पुरी अरमान रजऊ,,
बिन तुहरे हम बानी बेजान रजऊ,,
दुई तन बा एक गो परान रजऊ,,

केतनो हम बाटी बीचे,हितइ नतइ घरनवा,
टीस रहि रहि उठे कउनो, हिया में सजनवा,
बिन थुन्नी के ढहत ई छानि रजऊ,,
होखता जिनगिया जियान रजऊ,
बिन तुहरे हम बानी बेजान रजऊ,,
दुई तन बा एक गो परान रजऊ,,

नइहर न जाईं, नाहीं शहरे हम आईब
गवने उतरलीं जहंवा, उमिरिया बिताईब
आवा फेरो बन जा किसान रजऊ,,
बाटे अगोरत राउर चान रजऊ,,
बिन तुहरे हम बानी बेजान रजऊ,,
दुई तन बा एक गो परान रजऊ,,

फुलवारी के कियारी में पनिया लगइहा,
डीह बाबा, काली माई सिव के मनइहा,
भूल आपन तू करा सुधार रजऊ,,
मिटी लगल लांछन पुरान रजऊ,
बिन तुहरे हम बानी बेजान रजऊ,,
दुई तन बा एक गो परान रजऊ,,

खटि खटि कइल जाई मेहनत संगे तइयारी,
खेतवा लहलहाई, फूल फुलाई फुलवारी,
हरवा के होखी जब गुमान रजऊ,
चहुँ दिस होखे लागी बखान रजऊ,,
बिन तुहरे हम बानी बेजान रजऊ,,
दुई तन बा एक गो परान रजऊ,,
– -गोपाल दूबे

56 Views
Like

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...