Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

बताईं रूप ई सुंदर खुदा कइसे सँवारे नी

कबो बिंदी कबो काजल, कबो नैना निहारे नी।
कबो लाली कबो बाली, निरखि जिनगी गुजारे नी।
बड़ी मासूम बा मुखड़ा, नजर तनिको हटट नइखे-
बताईं रूप सुंदर ई, खुदा कइसे सँवारे नी।
😛😛😛😛😛😛😛😛😛😛😛😛😛😛
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य

1 Like · 1 Comment · 76 Views
Like

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...