· Reading time: 1 minute

पिता के दर्द

विधा-कुण्डलिया

कइसे-कइसे के इहाँ,अइलें सोंच सहेज।
बेटहा क ई माँङ बा,दुलहिन अउर दहेज।
दुलहिन अउर दहेज ,बराबर दूनू चाहीं।
ना तऽ देब चहेट,करब हम शादी नाहीं।
सुनि क बेटिहा ठाढ़,काठ मरले हो जइसे।
लोभी बा दहिजार,बियाहब बेटी कइसे।।

**माया शर्मा**

17 Views
Like
Author

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...