Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

नवरातन में बकरा…

नवरातन में बकरा…

गइली दुर्गा अउरी उनकर बघवो भागि पराइल
नवरातन में बकरा काटे जब लोग मन्दिर आइल
कहलसि बघवा हे देवी हम त तहरे अंश हईँ
बाघ तरे बा रूपवा बाकिर ना बाघे के वंश हईँ
हम त एगो बिम्ब हईँ ना कुछ खाईँ ना पीयेनी
तहरे जस हे माई हमहूँ धरम के बल पर जीयेनी
बाकिर देखऽ कइसे लोगवा करत हमेँ बदनाम हवेँ
पाप करेँ खुद बाकिर काहेँ लेत बाघ के नाम हवेँ
किसिम किसिम के अधर्मी लो बा मन्दिर पर आइल
बकरा केहू ले आइल बा कटवइयो उपराइल
मास अउर अण्डा के उँहवा दोकनियो बा लागल
येही से हे माई हमहूँ आवत बानी भागल
बाकिर समझ ना आवे हमके काहेँ ना बतलवलू ह
उबड़ खाबड़ रस्ता ध के पैदल पैदल अइलू ह
झर झर लोर झरे अखियन से बोल न मुँह से फूटेला
बाकिर मन के भाव जवन बा सगरी बघवा बूझेला
धरती जवन पवित्र रहे खूने से आजु नहाइल बा
पूजा करे आइल आ कि पाप करे सब आइल बा
मन्दिर त हमरे ह बाकिर बात सही बतलाईले
रक्तबीज से डरनी ना पर मानव से घबराईले
हमरे मन्दिर मेँ पशुवन के बलि जब लोग चढ़ावेला
लागे जइसे हमरे गरदन पर फरसा बरसावेला
येही से ये निर्जन मेँ हम भागि-परा के अइनी हँ
जाइबि ना ओइजा हम कहियो अइसन किरिया खइनी हँ

– आकाश महेशपुरी

45 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...