· Reading time: 1 minute

तोहके निहारे

चमके चुनरिया चनरमा हो गोरी तोहके निहारे
देखते चहकि जाय मनवा हो गोरी तोहके निहारे

सब सुनराई के दिहलें खंघारी
तोहके विधाता जी रचलें सँवारी

केतनो बचाईं, नयनवा हो गोरी तोहके निहारे
चमके चुनरिया…………

कजरा में कँवरु कमेच्छा के जादू
गजरा सजा के गजब इतरालू

मह मह मह महके सिवनवा हो गोरी तोहके निहारे
चमके चुनरिया…………..

रूपवा के गगरी तनिक ढरका द
हँसि के ‘असीम’ आजु अमरित पिया द

कबले ई तरसी परनवा हो गोरी तोहके निहारे
चमके चुनरिया………….

© शैलेन्द्र ‘असीम’

1 Like · 57 Views
Like
Author
12 Posts · 568 Views
शैलेन्द्र कुमार पाण्डेय उपाख्य : 'असीम' माता : स्व. द्रौपदी पाण्डेय पिता : स्व. सूर्यभान पाण्डेय पत्नी : श्रीमती प्रिया पाण्डेय पुत्रियां : श्रेया नव्या तन्वी शिक्षा : एम.एस-सी., बी.एड.,…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...