Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

तुम हो हमरी प्रितमा पहली

काहे हांक लगावत रहली
तुम हो हमरी प्रितमा पहली

तुम तो निस्ठुर सुनत नहीं बा
हमने जी की बातें कहली

1 Like · 110 Views
Like
Author
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार Books: इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); 'इक्यावन इन्द्रधनुषी ग़ज़लें' (ग़ज़ल संग्रह) प्रतिनिधि रचनाएँ (विविध पद्य रचनाओं का संग्रह); रामभक्त शिव (संक्षिप्त…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...