Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

चलऽ देवघर

#शक्ति_छंद

नापनी 122 122 122 12

भजऽ नाम भोले क आठो पहर।
चलऽ हो चलऽ हो, चलऽ देवघर।
सजी काम बिगड़ल बनावत हवें।
सुपथ आज सबके दिखावत हवें।

उमापति, अनघ, रुद्र,शंकर कहऽ।
महादेव जी के शरण में रहऽ।
कि कैलाश पर ऊ रहेलन सदा।
कृपा भक्त पर भी करेलन सदा।

कृपा सिंधु महिमा दिखावऽ तनिक।
सजी आज संकट हटावऽ तनिक।
तुहीं नाथ हउआ बतावऽ तनिक।
गिरल बानि हमके उठावऽ तनिक।

मलाई मिठाई न खालन कबो।
उ मेवा क पजरी न जालन कबो।
सदा भांग गोला प बम-बम करें।
सजी भूत नमवे से’ ठरठर डरें।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

52 Views
Like

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...