· Reading time: 1 minute

गजल

दरदें दिल आपन सबके, बतावल न करीं।
दुःख में हमदर्द सबके, बनावल न करीं।

बनिके नादान दे दिहें, उ धोखा बहुत,
सबसे दिलवा जी रउरे, लगावल न करीं।

मेहनत से कमाई जी, नून रोटी,
घर रुपिया हराम के, लावल न करीं।

सब केहु इहाँ जिये के, हकदार बा,
धूप औरन के रउरे, चुरावल न करीं।

जब जलवही के बा, द्वेष ईर्ष्या जले,
बहू बेटी हउवे केहुक़े, जलवाल न करीं।

कर्म हउवे प्रधान, ई मानी हजूर,
अनायाश गाल आपन, बजावल न करीं।

एक्को रुपया साथे न केहू, ले गइल बा,
एहि से नाज रउरे तनिको, देखावल न करीं।

2 Likes · 29 Views
Like
Author
4 Posts · 212 Views
"सीखाने वाला एक शिक्षक और सीखने वाला एक विद्यार्थी।'' निवास: लाला छपरा, पत्रालय: लक्ष्मीगंज, जनपद: कुशीनगर,U.P. पिन 274306 M.A.(Eco), B. Ed., and other.. Mob..9838418787, 6392278218

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...