Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

किसान के लड़ाई

केतना झेली
आख़िर अवाम
सम्भल के रहो
तनी हुक़्मरान…
(१)
ज़ुल्म औरी
शोषण के ख़िलाफ़
अब जागअता
मज़दूर-किसान…
(२)
सत्ता से लेके
व्यवस्था तक
बदले वाला
बा हिंदुस्तान…
(३)
मंदिर-मस्जिद
बहुते भईल
अब चली ना
हिंदू-मुसलमान…
(४)
रोज़गार गईल
पाताले में
महंगाई
छूएला आसमान…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#जनवादीगीतकार
#FarmersProtest

43 Views
Like
Author
184 Posts · 9.1k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...