Read/Present your poetry in Sahityapedia Poetry Open Mic on 30 January 2022.

Register Now
· Reading time: 1 minute

कइसे मन बिसराई

सनेहिया कइसे मन बिसराई
हाथ छोड़ा के गइनीं कहवाँ, रोवत बा लरिकाई

जब जब सुधिया में आवेनीं, अँखिया भरि भरि जाला
कहवाँ जाईं कइसे खोजीं, कुछऊ नाहिं बुझाला

कवने नगरिया गइनीं जहवाँ जा के केहुए न आई
सनेहिया कइसे मन बिसराई

बाँहिं पकड़ि के राहि देखवनीं, जब जब राहि भुलाइल
रउए आ के बाति सम्हरनीं, जब जब मन घबड़ाइल

के गलती पर डाँटी मारी, के आ के समुझाई
सनेहिया कइसे मन बिसराई

रउआ गइला पर हम बुझनीं बाप के मतलब का ह
बाप बिना लइकन के जिनिगी, कवनो जिनिगी ना ह

एह दुनिया में बाबूजी अस के ‘असीम’ दुलराई
सनेहिया कइसे मन बिसराई
© शैलेन्द्र ‘असीम’

44 Views
Like
Author
12 Posts · 596 Views
शैलेन्द्र कुमार पाण्डेय उपाख्य : 'असीम' माता : स्व. द्रौपदी पाण्डेय पिता : स्व. सूर्यभान पाण्डेय पत्नी : श्रीमती प्रिया पाण्डेय पुत्रियां : श्रेया नव्या तन्वी शिक्षा : एम.एस-सी., बी.एड.,…

Enjoy all the features of Sahityapedia on the latest Android app.

Install App
You may also like:
Loading...