Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2023 · 1 min read

Bahut fark h,

Bahut fark h,
Kisi ko tut kar chahane me
Aur kisi ki chahat me tut jane me.

188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कुछ जुगनू उजाला कर गए।
कुछ जुगनू उजाला कर गए।
Taj Mohammad
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
"साजन लगा ना गुलाल"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
लड्डू गोपाल की पीड़ा
लड्डू गोपाल की पीड़ा
Satish Srijan
कुछ इस तरह से
कुछ इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
"सुकून की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
💐प्रेम कौतुक-420💐
💐प्रेम कौतुक-420💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा शिमला
मेरा शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"लिखना कुछ जोखिम का काम भी है और सिर्फ ईमानदारी अपने आप में
Dr MusafiR BaithA
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
गूँज उठा सर्व ब्रह्माण्ड में वंदेमातरम का नारा।
Neelam Sharma
कल सबको पता चल जाएगा
कल सबको पता चल जाएगा
MSW Sunil SainiCENA
धोखा
धोखा
Anamika Singh
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
सत्य कर्म की सीढ़ी चढ़कर,बिना किसी को कष्ट दिए जो सफलता प्रा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
नाराज़ जनता
नाराज़ जनता
Shekhar Chandra Mitra
अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर आते हैं।
अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर आते हैं।
Manisha Manjari
✍️दिल शायर होता है...✍️
✍️दिल शायर होता है...✍️
'अशांत' शेखर
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
* बुढ़ापा आ गया वरना, कभी स्वर्णिम जवानी थी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
स्वास्थ्य
स्वास्थ्य
Saraswati Bajpai
प्रथम शैलपुत्री
प्रथम शैलपुत्री
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
याद तो बहुत करते हैं लेकिन जरूरत पड़ने पर।
याद तो बहुत करते हैं लेकिन जरूरत पड़ने पर।
Gouri tiwari
गीत -
गीत -
Mahendra Narayan
=*बुराई का अन्त*=
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
Loading...