Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2021 · 1 min read

बड़ा ख़तरा है …..

वक़्त के लम्हों को किसने कब पकड़ा है
बाँहों में इसे कब किसी ने जकड़ा है
ज़रा यादें बना कर दिल के घरोंदें में सजा लो
वरना वहाँ से भी उड़ जाने का ख़तरा है……

बहती हवा के झोंकों को कहाँ कोई पकड़ पाता है
कब कोई इसके साथ बह पाता है
समय रहते ख़्वाबों को पंख दे कर उड़ लो
वरना उनके भी अधूरे रहने का ख़तरा है……

दिल की साँसो को कौन गिनता है
कब वो साथ छोड़ दे किस को पता है
किसी और के दिल में जगह बना कर जी लेना
वरना विलीन हो जाने का ख़तरा है……

क़दमों के निशान कहाँ किसी के हमेशा दिखते हैं
रोज़ ही बनते ओर रोज़ ही बिखरते हैं
प्यार और इकरार की राहें बना कर चलना
वरना निशानों के भी मिट जाने का ख़तरा है……

ताउम्र कौन साथ निभा पाता है
मौत का सिलसिला तो हर पल जारी रहता है
जितनी मिली ज़िंदगी वो ख़ुशियाँ बाँटने में लगा देना
वरना नामोनिशान भी न रहने का ख़तरा है……

3 Likes · 5 Comments · 318 Views
You may also like:
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
पूंजीवाद में ही...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
सीखने का हुनर
Dr fauzia Naseem shad
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
बड़ी बेवफ़ा थी शाम .......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीता की महत्ता
Pooja Singh
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️ देखते रह गये..!✍️
"अशांत" शेखर
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
Only Love Remains
Manisha Manjari
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
एक पते की बात
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ज़िंदगी का सवाल होते हैं ।
Dr fauzia Naseem shad
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
न्याय
Vijaykumar Gundal
Loading...